औरत

The true emotions from my senior’s blog!
Check his amazing blog!!

hg2601

पूजा करते तुम लक्ष्मी की

ज्ञान देती तुम्हे सरस्वती है

फिर भीना जाने क्यों

देश की लड़की डर डर के जीती है

हक़है उसकोभी जीने का

मन मर्ज़ी के कपड़े पहनने का

फिर भी ना जाने क्यों

उस लड़की की गलती निकलती है

माना वो तुम्हारी बहन नही

पर किसी की वो भी सघी है

भगवान ने दिया उसे लड़की कादर्जा

क्या यही उसकी दुर्गति है?

कर लो थोड़ी कदर उस औरत की

जिसनेसंसार को बनाया सुंदर है

आखिरयह बात भी सच है

नौमहीने तुमने भी बिताये औरत के अंदर है ।

View original post

6 Comments

Add yours →

  1. Ekdum hyrudayasparshi. ..kya khub likha hain

    Liked by 1 person

  2. Well expressed! Loved this poem!

    Liked by 1 person

  3. Very true…. Salute to every girls…. Lot’s of respect to every girls…. 🙏

    Liked by 2 people

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: